!@#$% – 2

पहले भाग से आगे …


मौत आसान है, जीना और भी आसान 
नेह के पल कठिन, सोचना और कठिन 
कुछ कर जाना महाकठिन। 
और दुनिया है कि लगता है 
इससे पहले आसानियाँ थी ही नहीं। 
सम्भोग के, जनने के
टाँग फैला जमीन पर बदबू करने के – 
आह! इतने अवसर पहले कहाँ थे?
  
खीर के दोनों को आतुर मातायें 
अब यज्ञ वेदी के पास फटकती नहीं – 
नहीं होतीं दिव्य अवतारी संतानें।

न करो उम्मीद कि मैं फँसूगा 302  या 307 में – 
प्रतिष्ठित महापंडित रावणों का वध? 
हा, हा, हा 
सिवाय खुद को मारने के, 
किसी की ओर तना आक्रोश 
आतंकवाद की एक और घटना होती है। 
अट्टहास करता एक रावण चुप हो 
मीठी जुबाँ कहता है – 
अब सिर्फ मैं ही बचा एक ईमानदार 
मुझे मारना मानवता पर महान संकट लायेगा – 
ईमान विषय हो जायेगा 
जेनेटिक इंजीनियरिंग का 
और बलात्कारों का आखिरी विशेषज्ञ 
स्वर्ग चला जायेगा – अप्सराओं के पास
जहाँ भोग और बलात्कार
स्वतंत्रता की उद्घोषणा की पहली धारायें हैं।   
मानवता जार जार रोयेगी 
जब कि चाम से चाम की रगड़ को सोच
हँस उठेंगी सारंगियाँ
और
इतिहासकार रचने लगेंगे 
एक और भोंड़ा सा मिथक।      


The moment when I come out of 
super specialty hospital 
Thinking how to control cholesterol 
and how to control that burning desire 
which burns loin areas of two bodies
Something flashes 
‘they did not talk about celibacy’
I feel ashamed about myself 
I desire for fire
I desire to fire 
While still stuck up between these two fires – 
Economy takes twofold swings
It grows, it limps making millions neuter – 
Whole world is suffering from erectile dysfunction 
And population is growing, growing, growing on … 
ज़िबह होने को।

हथियार होता है पैवश्त 
गले में 
टाँगों के बीच नहीं।
आश्चर्य नहीं कि खाद्य संकट नहीं है 
और प्रिंट, नेट, स्पैम सब, सब 
वियाग्रा के प्रचार से अटे पड़े हैं।  


They flood that street with blood 
wherever hunger walks – 
That is ultimate solution 
Die! 
please don’t cry!! 
… sob 

(क्रमश:) 

Advertisements

5 thoughts on “!@#$% – 2

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s