अछ्न्द संग

शब्द चुप हैं कि उनकी जुबाँ काट ले गया कोई
मन में अन्धेरा है भावों की परछाइयाँ हैं गुम 
कुछ लगता ही नहीं कि वजूद हुआ दफन कहीं 
ऐसे में कैसे कह दें कि चहुँ ओर खलबली है? 


शांति है, स्तब्ध हैं सब गुमसुम अपने काम में 
बैठा लिया है संतुलन सफल स्याह ने शुभ्र से 
दिन कटने हैं, कटते हैं आराम से बिला वजह 
जिन्दगी बिला वजह, वक़्त बिला वजह बेवजह। 


शोर उठते हैं, उठते रहेंगे कि उठना है काम उनका 
क्या पड़ी है तुम्हें भागने की पीछे करो काम अपना ?
ये दुनिया है, ऐसी ही है, थी और रहेगी पसरी ऐसी
जो गुस्सा है, थूको पीकदान में, इसकी बखत इतनी।


चुप हूँ सोचता कि दिमाग जिन्दा खुराफात जिन्दा 
जिन्दा यूँ ज्यों जमीन में कसमसाता केंचुआ 
जब होंगी बारिशें और बिलों में भरेगा ताजा पानी 
निकल रेंगने कुचल जाने को करेगा मजबूर पानी।


पानी जब घुसता है ले हवाई बुलबुले बिलों में
हवस दहके उमसते हैं बीज फूटें अंकुर दिलों में 
मैं चुप काम करूँ अपना जमीन को छ्लनी बना 
मैं दफन नहीं रेंगता सुनता हूँ आहटें खलबली की। 
Advertisements

6 thoughts on “अछ्न्द संग

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s