कविता गल्प : … न थकेंगी

पाँखें थमी हैं 
परी थकी है 
सेज लगी है
पलकें भरी हैं
आँखें नमी हैं 
सपन सजने आयेंगे? 
सजन सपने आयेंगे? 
सजन अपने आयेंगे?
सजन आयें, न आयें 
आँखें मुदेंगी
निंदिया आयेगी
सपन आयेंगे
आँखें नमेंगी
पलकें भरेंगी
बस, बस! 
पाँखें उड़ेंगी
न थकेंगी। 

Advertisements

4 thoughts on “कविता गल्प : … न थकेंगी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s