सब तुम में … होना, न होना…क्यों है?

कितने प्रारम्भ

कितने ही अंत 
ऊषा प्रतिदिन 
गोधूलि प्रतिदिन 
सब तुमसे 
सब तुम पर।
सब तुम में 
इतना कैसे सिमटा तुम में?
तुम हो ही क्यों?
अभी एक गीत सुना है:
तेरा ना होना जाने क्यों होना ही है। 
क्यों है? 
  
    
Advertisements

7 thoughts on “सब तुम में … होना, न होना…क्यों है?

  1. Usi movie main hi jawab bhi hai…Original Words: jab koi pyar main hota hai na, to kuchh bhi sahi ya galat nahi hota, bas pyar hota hai.Modified Version: Jab kisi pe bharosa hota hai na, to tinke bhi sare sansar ko samete dikhte hain, isme kuchh sahi ya galat nahi hota, bas hota hai.Jo pasand aye rakh lijiye.Waise original version mujhe pasand hai. 🙂

  2. बंद दरवाजे पर दी गयी दस्तक लौटती है प्रत्युत्तर बनकर समेटे अपने-आप में सन्नाटा प्रश्न होने-न होने का है संकट अस्तित्व का है.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s