कविता भी साथ छोड़ गई है !

दो दिनों के अखबार
मच्छरमार हथियार 
रिमोट कंट्रोल 
मोजे 
मोबाइल
गिटार
लैप टॉप – 
सब
बिस्तर पर इकठ्ठे हैं
तुम जो नहीं हो !
यह इकठ्ठा होना 
इतने बिलग तत्वों का 
तुम्हारी अनुपस्थिति को 
सान्द्र करता है। 

बताता है 
बिन घरनी 
घर प्रेत का डेरा
प्रेत भी कैसा !
एक कमरे में कैद
अव्यवस्थित

कैसा समय
कविता भी साथ छोड़ गई है ! 
Advertisements

26 thoughts on “कविता भी साथ छोड़ गई है !

  1. कविता की इतनी हिम्मत कि वो साथ छोड़ जाए….ऐसा हो नहीं सकता है जी …हाँ कभी बेकार सी…कभी फटकार सी, कभी दुलार सी और कभी प्यार सी हो सकती है …लेकिन साथ तो वो इस जनम में नहीं छोड़ेगी ….आप चाहें तब भी नहीं….आज भी जो लिखी है….कविता ही है…सोचने वाली बात.. ये है कि कैसी है…!हाँ नहीं तो..!!

  2. आज तो ….गिटार था ही गाना ही गा देते …छोड़ गए बालम मोहे हाय अकेला छोड़ गए…वही काफी होता….और ई जो भन्डा फोड़े हैं कि आप guitarist हैं, उससे अब आपको कौन बचाएगा…कहियेगा ज़रा…कुछ अपना बजाया हुआ sample डालिए अब..बिना ना-नुकुर किये हुए… हाँ नहीं तो…!

  3. तुम्हारे बिन कैसे रहता हूँ, यह बताने के लिए और भी तरीका था.कविता लिखकर ब्लॉग पढ़ने के लिए फोन करना ..यह तो इमोशनल अत्याचार है. बच्चों की छुट्टी वर्ष में एक बार ही होती है काहे इतना परेशान हैं..ब्लाग तो है ही.

  4. @ अदा जी, मैं गिटारिस्ट तो सारी दुनिया गिटारिस्ट ! :)ब्रिजों पर बिना अंगुली दबाए बस तंतुओं की ध्वनियों से खेलता हूँ। आनन्द आता है। ऐसे ही देर तक सिंथेसाइजर पर बजाता रहता हूँ – ऐसे गीत जिनका कोई सिर पैर नहीं – बस बह रहे यूँ ही, बेपरवा, अनजान, नादान। न सुर का ज्ञान न स्वरों का। बहुत बार कविता भी मेरे लिए ऐसी हो जाती है – तत्क्षण मूड को अभिव्यक्त करती हुई। 🙂 ऑडियो डालना है लेकिन एक जोगी के गाए गीत का … लुप्त होती परम्परा … सारंगी पर गोपीचन्द जोगी की कहानी …

  5. …बहुत खुशकिस्मत हैं आपकी श्रीमती जी, आप इतना मिस जो करते हैं…एक हम हैं ऐसे मौकों पर सोचते हैं… यह हुई न बात!… काम की हर चीज अपने ही सा्थ बिस्तर पर रखने का मौका मिला है… सो इन्जॉय!आभार!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s