आभार: नवीन रांगियाल – टूटे हुए बिखरे हुए

बैचैन सा घूमते घामते आज नवीन रांगियाल जी के ब्लॉग औघट घाट पहुँच गया।
लगा जैसे टहलते टहलते शहर से बाहर आ गया हूँ। … किशोरावस्था का वह रामकोला टाउन से बाहर धर्मसमधा तक आ जाना। गहन शांति। घाट पर बैठ पानी में पैर डाले चुपचाप देर तक लहरों को निहारते रहना – अकेले।.. बस वही स्थिति हो गई। पढ़ता गया, पढ़ता गया चुपचाप।
उनकी अद्यतन पोस्ट कविता टूटे हुए बिखरे हुए   के शब्दों को बस पुंनर्व्यवस्थित किया और देखिए न कैसे एक रिश्ते की बुनावट होती दिख गई !….  हिन्दी ब्लॉगरी में जाने कितने रत्न ऐसे ही छिपे पड़े हैं। आप लोग भी ढूढ़िए न !

पसीना
देह गन्ध
शहद नमक पुती जबान 
गहरा पसरा मौन
जिस्म उतार 
हम रूह सूँघ रहे थे
रिश्ते बुन रहे थे
चुप चाप।
Advertisements

7 thoughts on “आभार: नवीन रांगियाल – टूटे हुए बिखरे हुए

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s