पाठक मेरे !

पाठक मेरे! 
हाँ मैंने पढ़ी है तुम्हारी हर टिप्पणी
अक्षर, अक्षर , मात्रा , मात्रा
मैंने उनमें लय ढूढ़ने के जतन किए हैं
अपने लिए सम्मान प्यार तिरस्कार सब ढूढ़ा है
पाया है। 
वह बेचैनी भी ढूढ़ी है – 
काश ! थोड़ा ऐसे लिख दिया होता  
क्या बात होती ! 
कम्बख्त ने कबाड़ा कर दिया।
मैंने पाया है कई बार
स्तब्ध मौन – जब तुम बिना कुछ कहे चले गए।
वह स्पष्ट निन्दा बघार 
मेरे स्वर व्यंजन – व्यंजन स्वाद।
सब सवादा है।…. 
पाठक मेरे !
मैं मानता हूँ 
तुम भी पढ़ते होगे मुझे इसी तरह। 

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s