…होनी चाहिए

तुम आओ, न आओ घर हमारे – हम तो हर पल अगोरेंगे                  
बची तुम्हारे जेहन में, हमारी यादों की सौगात होनी चाहिए।


न आई तुम, पूछा किए भोर से, उषा से, चमकते आफताब से
शाम रुसवा हुई, खत से जाना कि मिलन की रात होनी चाहिए।


धौकनी बन गई साँसें, आँच निकले है जैसे गरम रोटी से
बुझा चूल्हा, कहीं किनारे अँसुअन भरी परात होनी चाहिए।  


बाहर मची है अन्धेरगर्दी, न कोसो आइने से मुखातिब हो
पहले गली में, नुक्कड़ पर, निकलने की औकात होनी चाहिए।


देखा है सुना है, मचल जाते हैं तुम्हारे असआर बाहर आने को
हवा में उछालने से पहले, जुमले की मालूमात होनी चाहिए।


वजह जगह भले अलहदा, सड़क पर हो राशन की लाइन में हो
कहीं भी कैसे भी हो, जरूरी है मेरे दोस्त, बात होनी चाहिए।

Advertisements

10 thoughts on “…होनी चाहिए

  1. धौकनी बन गई साँसें, आँच निकले है जैसे गरम रोटी सेबुझा चूल्हा, कहीं किनारे अँसुअन भरी परात होनी चाहिए। बहुत सुन्दर, लाजवाब भाव

  2. बहुत गजब..सच कहूं तो इससे कम की अपेक्षा भी नहीं रहती ..आपसे..पहले ही अनुमान लगा के आते हैं कि सब अद्भुत मिलेगा..और अनुमान ..यकीन में बदल जाता है..एक लंठ के लिये ही मुमकिन है..ऐसे रचना…

  3. दुष्यंत कुमार की याद आई शायद 'चाहिए ' को लेकर. पढ़ते गया तो आखिर की लाईने ज्यादा पसंद आती गयी. एक बारगी लगा की इसी तरह का ग्रेडीएंट है… पर पलट कर उपर की लाइन पढ़ी तो ये भ्रम जाता रहा. 'पहले गली में, नुक्कड़ पर, निकलने की औकात होनी चाहिए' ये लाइन तो गजबे दमदार है.

  4. 11:18 PM me: kya baat hai, kya zazbat hai… hum daurte chale aate ..shukra manaiye ki abhi raat hai. ..kahiye kaise rahi :-)11:19 PM गिरिजेश: kya baat hai, kya zazbat hai…11:20 PM me: gazalto ho gaye lekh kahan hai11:21 PM गिरिजेश: गहरी हो चली रात है। कल के दिन अपन अवतार लिए थे। the time has come सुबह पढ़िएगा। मैं लिखते रो पड़ा था।11:23 PM हालाँकि कोई कारण नहीं था..बस यूँ ही।11:24 PM me: Tabhi doob kuch jyada nam thi… palken bheegi lekin kam thi …zazbaat ka koi karan nahi hota ….fir bhi hoga zaroor kuch koi u hi nahi rota11:25 PM maharaj ab edition ka pressure hai गिरिजेश: वाह ! क्या कहने! शुभ रात्रि11:26 PM me: Good night

  5. वजह जगह भले अलहदा, सड़क पर हो राशन की लाइन में होकहीं भी कैसे भी हो, जरूरी है मेरे दोस्त, बात होनी चाहिए।यह डायरी से नहीं नव सृजित है, बधाई ! अलग अलग तासीर की फुल्झडियां हैं ये ! कहीं आग और कहीं धुआ केवल !

  6. अरविंद मिश्र जी का शुक्रगुजार हूँ कि आपका पता मिला…खूब पढ़ना चाहता हूँ आपको अब इस गज़लनुमा कविता को पढ़ लेने के बाद!कुछ मिस्‍रे तो जबरदस्त बुने गये हैं!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s